Translate

Wednesday, 14 November 2012

..माँ का अपने बेटे के लिए पत्र

on children 's day today ...missing my son... ...माँ का अपने बेटे के लिए पत्र 


एक पत्र बेटे के नाम 

मेरे बेटे ......
बंद पलके जब उठाती हूँ तो तू ही नज़र आता है मुझे
दिन में हर वक़्त हर पल तू याद आता है मुझे
कैसे तुझे अपने पास बुलाऊं या खुद आ जाऊं
ये बिलकुल भी समझ न आये मुझे
तुझे खुद से दूर करने की तमन्ना न थी
तेरी ज़िन्दगी संवर जाए ये बस उम्मीद है मुझे
तेरी हर इच्छा पूरी हो हर सपने का आगाज़ हो
तेरी हर नेक मुराद पर यकीन है मुझे
कठिन राह पे चलते ,मंजिल पाना है भी मुश्किल
फिर भी जीत जाओगे ,लक्ष्य अपना पाओगे
ये खुदा से दुआ है मेरी और विश्वास है मुझे
तुम हमेशा सलामत रहो ,खुश रहो
नेक कर्म और परिश्रम बस करते रहो
ये ही बस तुमसे जुडी ख़वाइश है मुझे .....

तुम्हारी माँ ..

8 comments:

  1. लो जी फिर आ गया 'बाल दिवस' - ब्लॉग बुलेटिन बाल दिवस की हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएं स्वीकार करें ... आज की ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर पत्र |

    सादर

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर भावपूर्ण माँ के अंतस के स्वर...

    ReplyDelete
  4. माँ ले कदमो तले स्वर्ग ,सलूट एंड सेलिब्रेट प्यारी माँ Happy children 's day

    ReplyDelete
  5. माँ ले कदमो तले स्वर्ग ,सलूट एंड सेलिब्रेट प्यारी माँ

    ReplyDelete
  6. माँ के आशिर्बाद बच्चे का सबसे बड़ा संबल होता है.
    मेरी नई रचना ; हम बच्चे भारत के " http://kpk-vichar.blogspot.in

    ReplyDelete
  7. बहुत प्यारा पत्र....सहज प्रेम माँ का...

    अनु

    ReplyDelete
  8. बहुत बढ़िया प्यारा पत्र सहेजे हुए टुकड़े .....बहुत सुन्दर हैं...आभार

    ReplyDelete